Dec 8, 2015

Niyat

नीयत

खामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है 
कभी अहदे - बफा  के  लिए ,
कभी  माहोल को काबिल  बनाने के  लिए 
मु.ज्तारिब क्या  करू
   

नीयत नहीं . . 

दूसरोंं  पर कीचड़ उछाल कर 
ख़ुद को कैसे साफ़ रखू
कभी  खुद  के  घोंंसले ,
कभी दूसरोंं के  तिनके  
की पाकीज़गी  बनाए रखने  की  , नीयत
मुख्तलिफ़  होकर  भी 
मुक्कमल जहान है
ये ख़ामोशी नहीं अपनी  मसरुफ़ियत  
ज़रा  सी.. 
चंद खुशियों  को महफूज़  रखने की ,नीयत

 खामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है                                   - ©पम्मी .सिंह 'तृप्ति' ..✍️ 
( अहदे -वफ़ा -वफादार ,मुजतारिब -शिकायते मसरूफियत-व्यस्तता,मुख्तलिफ़ -भिन्न,)

24 comments:

  1. यही तो जीवन की उपलब्धि है...बहुत सुन्दर और सटीक चिंतन...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद,प्रतिक्रया हेतु आभार ..सर

      Delete
  2. बहुत खूब जी |

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया हेतु धन्यवाद

      Delete
  3. वाह..., क्‍या बात है। ''खामोश ज़बानों की भी खुद की भाषा होती है'' दिल को छू जाने वाली रचना की प्रस्‍तुति। अच्‍छी बात यह कि आपने अपने कमेंट में अपना यूआरएल डाला। इससे मैं आपके ब्‍लाग पर महज 3 सेंकेड में पहुंच सका। धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  4. वाह..., क्‍या बात है। ''खामोश ज़बानों की भी खुद की भाषा होती है'' दिल को छू जाने वाली रचना की प्रस्‍तुति। अच्‍छी बात यह कि आपने अपने कमेंट में अपना यूआरएल डाला। इससे मैं आपके ब्‍लाग पर महज 3 सेंकेड में पहुंच सका। धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  5. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    Ebook publisher India|Online ISBN Provider

    ReplyDelete
  6. बहुत सुलझे ढंग से विचारों की प्रस्तुति । हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुलझे ढंग से विचारों की प्रस्तुति । हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  8. जी प्रतिक्रिया हेतु आभार..

    ReplyDelete
  9. Enjoy 15% Off on any of the print packages and the next Ebook for free to welcome 2016, and also get cash back offer Up to 3500

    Ebook Publishing cash back offer

    ReplyDelete
  10. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 20/11/2018
    को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  11. वाहहह... क्या बात बहुत खूब👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया श्वेता जी..

      Delete
  12. वाह उम्दा और बेहतरीन ख्याल पम्मी जी।
    बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभेच्छा सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु आभार..

      Delete
  13. खामोश जबानों की भी खुद की भाषा होती है
    वाह!!!!
    बहुत सुन्दर, सार्थक और लाजवाब अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभेच्छा सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु आभार..

      Delete

रस्मों में यूँ रुस्वा न करों मुझको..

  इक साज हमारा है इक साज तुम्हारा है लफ्जों संग वो साहब- नाज़ तुम्हारा है, इल्जाम लगाकर यूँ जख्मों को सजाए क्यूँ चलों धूप हमारी है, सरताज ...