Search This Blog

Dec 29, 2015

Shafak

                                                
नव वर्ष  की
 नवोत्थित  शफ़क़ 
यूँ  ही  बनी  रहे 
हमारे  एवानो में 
आसाइशे  से नज़दीकियों की                                                              
सफ़र बहुत छोटी हो                                                                                                                 
साथ  ही उन दहकानों  की दरे 
भी  जगमगाती  रहे . .
ख्वाबों  में  भी
 इन अज़ीयते  से 
दूरियाँ बहुत  लम्बी हो 
 इन्सानियत फ़ना होने से 
 बचती  रहे. . 
अहद ये  करें कि
 फ़साने कम  हो
इक ही  हक़ीक़त बनी रहे . 
ये  शफ़क़ घरो  में 
खिलती रहे..
                     - ©पम्मी..
  

                                 
                                                                                           
शफ़क़ -क्षितिज  की लाली (dawn)
नवोत्थित -नया उठा हुआ (new rising day)
एवानो - महल (palace.home)
आसाइशों -सुख  समृधि (well being)
दहकानों -किसान (farmer)
अज़ीयते - दुख  दर्द (unhappy,sad)
अहद -प्रतिज्ञा (oath)
(चित्र- गूगूल के सौजन्य  से )

Dec 8, 2015

Niyat

नीयत

खामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है 
कभी अहदे - बफा  के  लिए ,
कभी  माहोल को काबिल  बनाने के  लिए 
मु.ज्तारिब क्या  करू
   

नीयत नहीं . . 

दूसरोंं  पर कीचड़ उछाल कर 
ख़ुद को कैसे साफ़ रखू
कभी  खुद  के  घोंंसले ,
कभी दूसरोंं के  तिनके  
की पाकीज़गी  बनाए रखने  की  , नीयत
मुख्तलिफ़  होकर  भी 
मुक्कमल जहान है
ये ख़ामोशी नहीं अपनी  मसरुफ़ियत  
ज़रा  सी.. 
चंद खुशियों  को महफूज़  रखने की ,नीयत

 खामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है                                   - ©पम्मी . . 
( अहदे -वफ़ा -वफादार ,मुजतारिब -शिकायते मसरूफियत-व्यस्तता,मुख्तलिफ़ -भिन्न,)