गुफ़्तगू

Feb 14, 2019

विनम्र श्रद्धांजलि (14 फरवरी2019)













अर्श पे महशर की घड़ी हैं
फ़र्द हैरान,तिफ़्ल की लड़ी हैं
 बंद करों वाइज़ शोर को
 मुनासिब फैसले की घड़ी हैं।

               पम्मी सिंह'तृप्ति'..✍

(महशर-प्रलय,फ़र्द-सूची, तालिका
वाइज़ -नसीहत ,तिफ़्ल-बच्चें)

Jan 28, 2019

मुक्त नज़्म







साहित्यिक पत्रिका "अर्य संदेश " विगत १० वर्षो से  
साहित्यिक क्षेत्र में नित्य  सलग्न हैं..
मेरी प्रकाशित रचना..

मुक्त नज्म

शाह सियासत उसूलों पर भी रंग बदलती है
निस्बत पत्थरों से रहमत का न तकाज़ा रखों,


निजाम- ए- शाह की जो बढ़ी बदकारियां
मुल्क के हालात पर आँखें खुली रखों,

सियासत गर वहशत, नफ़रत पर मुस्कराने लगे
आँखों में सवाल के संग मुठ्ठी ताने रखों,

दहकानों को मयस्सर नहीं दो जून के निवाले
इरादों  में ईमान, आँखों में पानी रखों,

सिलसिला शह और मात पर जारी रहेगी
मुन्सिफ़ के कशीदाकारी पर मुख्तारी रखों।
                             ©पम्मी सिंह'तृप्ति..



Jan 10, 2019

दोहे ..हिंदी दिवस








विश्व हिंदी दिवस
१०/०१/२०१९

विधा:दोहे..
विषय:हिंदी
१.
हिंदी के नित वंदन में,निहित हमारी जात।
सहज,शाब्दिक भावों में,व्यक्त करती हर बात।।
२.
स्वर-व्यंजन के संयोजन से,बनते मीठे बोल।
शब्द,लिपि के स्पंदन से, बनते ये अनमोल।।
३.
सबके अधरों पे बसी,मीठे इसके बोल।
संस्कृत संस्कृति में रची, गुण इसके अनमोल।।

पम्मी सिंह'तृप्ति'
(दिल्ली)..✍

Dec 29, 2018

मुक्तक








मुक्तक..

💜💜💜


संदली हवाओं के रुख से आंचल लहराने लगें

पायलों के साज़ों से मंजिल गुनगुनाने लगें
फिर दफ़अतन हुआ यूँ कि
उल्फतों में ख़सारा ढूंढ वो नज़रे बचाने लगें।

पम्मी सिंह'तृप्ति'..✍


💜💜💜💜💜💜💜💜💜💜


सफ़्हो में ही कहीं न कहीं सिमटे रहेंगे
सफर के बाद भी यही कही बिखरे रहेंगे
सिफ़त ज़ीस्त का  हो समझना
हमारी लफ़्ज़ों की हरारत इनमें  ही निखरे रहेंगे।
    पम्मी सिंह 'तृप्ति'..✍

💜💜💜💜💜💜💜💜💜💜

Dec 15, 2018

अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस..





हौले हौले पियो..
नज़ाकत से  लुत्फ़ उठाओं..
ये चाय है..,
थोड़ी  मीठी थोड़ी कड़वी
जिंदगी की तरह 
धीेमी धीमी..उतरती है
ये चाय है..

International Tea Day☕☕
       

Dec 5, 2018

संस्मरण

लम्हों की सौगातें..
मोबाइल की घंटी लगातार बज रही थी.. 24 अक्टूबर 2018 की सुरमई सुबह की आहट थी। जल्दी- जल्दी घर के सब कामों को निपटा कर  8:00 बजे तैयार थी, आज इनके के साथ ही चलूंगी ताकि कार्यक्रम के आरंभिक भाग से वंचित न  रह  जाउं। बिना किसी लाग लपटें ,पुछ-ताछ के वो तैयार भी हो गए। बेवजह हीं शंकित थी , कहींं   दफ्तर में लेट हो जाने पर शब्द रुपी वाण न चला दे,.और मैं घायल हो मुँह पर बारह न बजा लू..  पर न..वो भी आसानी से तैयार हो गए ।
 ह.. ना.. तो..पर मन के बियाबान जंगल में अक्सर ही एक साथ कई बातें उभर आतें हैंं। उसी झुरमुट के
पत्तों ,काटों,शाखों से कुछ फूलों को समेट इन पन्नों पर शिद्द्त से सजा देती हूँ। अपने  वजूद के साथ शब्दों के तासीर को , इन सबके बीच तलाशती रहती।
 रास्तों में आती-जाती गाड़ियां ,लोगोंं के बनते बिगड़ते चेहरे और जीने की कुछ पाने के जद्दोजहद में ,सब की कहानी अपनी जमीन के साथ तयशुदा दायरें में चलता रहता है। मैं भी अपनी कहानी का एक हिस्सा बताने जा रहे हूँ.. सहोदरी सोपान -५ की भागीदारी में एक भाग पर, पर सच कहूँँ... वैसे तो कभी झूठ नहीं बोलती😁पर बरसो लग जाते हैं , एक किरदार की मुकम्मल तस्वीर बनाने में, "पर जब घिरती हूँँ"  कविता बहुत ही दिल के करीब है, क्योंकि यहाँँ तुम थी माँँ, हमारी " नीयत" की मौजूदगी के साथ जिंदगी की टकराहटोंं से पड़ने वाले घाव मात्र चुभते नश्तर और मुदावा से तकमील नहीं होती , बल्कि एक जोड़ी हाथ, नर्म फाहोंं के भी जरूरत होती है । जो शब्दों में तब्दील होकर " क्यूँ ना फिर मुस्कुरा कर  निभाते रहेंं" में बिखर गई।
खुद के वजूद का अहसास कराती एक खूबसूरत संवेदनशील रचना को शब्दों में समेटने की कोशिश , "हमारी किस्सागोई न हो" इसलिए हकीकत की पनाह में आ गए ,क्योंकि  पूर्णता की ओर निगाह सब की होती है , पर मेरी छोटी- छोटी अधूरी बातें छलक ही जाती है ,कभी अश्कों में, जज्बातों में, कभी रातों में ,ख्वाबों में ,रस्मों रिवाजों में, मातृत्व में, सहचरी बनने की कोशिश में, सच बोल रही हूँँ.. बहुत आगे नहीं, पीछे भी नहीं साथ चलना चाहती हूँँ।
 इन शब्दों की खुलती गिरह और रिश्तों को समेटने की कोशिश को ही शब्दों में भर हल्की हो जाती हूँ।

हद हो गई दरवाजा खोल कर.." अंदर देखोंं कहाँँ क्या हो रहा है.. कितनी देर होगी?
 मन के पन्नेंं, भावोंं का स्पंदन इसके के रोबीले आवाज से ठहर गई...
 "अरे!वाहह..  पहुँँच भी गई.. वो भी मन के उपांतसाक्षी को वहीं छोड़ बोली.. मतलब..  तुम जाओ.. लंच बॉक्स ले लेना.. बाय!! और आगे बढ़ गई.. पर जानी पहचानी आहटों से यह क्या.. तुम गए नहीं.."
"पहले पता करो कहाँँ हो रहा है.. तुम्हारा सेमिनार ..मेट्रो से लौट जाना"
" मैं भी मूँह बना कर बोली.. शाम जब तुम ऑफिस से जाना तो मुझे भी ले लेना.. सालों बाद तो एक ही मौका मिला है तुम लाभ उठाओ.. जानती हूँँ  तुम आओगे भी थोड़ा खिन्नता दिखाकर .. जनाब के आसानी से  बोल तो फूट ही नहीं सकते.. वह भी आसानी से ..
 मैं फोन कर दूंगींं.."
 "ओके !!"
सधे कदमों से ऑडिटोरियम की ओर  'भाषा सहोदरी हिंदी " तरफ से हंसराज कालेज दिल्ली में दो दिवसीय छठा अंतरराष्ट्रीय हिंदी अधिवेशन के कार्यक्रम का आयोजन हुआ। साहित्य की दुनिया में तमाम नामी गिरामी हस्तियों के बीच साहित्य अकादमी के अध्यक्ष आदरणीया मैत्रीय पुष्पा जी एवं हंसराज कॉलेज  प्राचार्या डॉ रमा शर्मा जी ,पद्मश्री  डा०सी. पी. ठाकुर जी ,मान्यवर जितेंद्र मणि त्रिपाठी(डी.सी.पी.) साहित्यकार के मुख्य आतिथ्य व सानिध्य में हंसराज कालेज, दिल्ली के सभागार से मानों कार्यक्रम में चार चाँँद लग गया ।
व्याख्यान में कथा ,लघु कथा के लेखन विधा के साथ साथ मौजूद विसंगतियों की ओर ध्यान आकृष्ट किया गया।
हिंदी में कार्य प्रणाली को बढ़ावा देने के साथ न्यायालय की भाषा बनाने पर विशेष जोर दिया गया जिस पर आदरणीय डॉक्टर सीपी ठाकुर राजसभा सांसद पद्मश्री अपने विचारों को व्यक्त किए।
 पर इन सबों से भी ऊपर यह बात रही कि दक्षिण भारत से बहुत लोग इस कार्यक्रम में उपस्थित हुए और पत्रिका के विमोचन में मुख्य भूमिका निभाई देश के हर राज्य से लोगों ने अपनी मौजूद मौजूदगी दर्ज कराई । मंच  से स्वरचित काव्य पाठ की अविस्मरणीय प्रस्तुति से वो अनमोल घड़ी एक सुखद पल के साथ एक आत्मसाक्षात्कार का क्षण बना।दूसरे दिन २५ अक्टूबर२०१८ साझा संकलन (लघुकथा, कविता) पुस्तक का लोकार्पण मुख्य अतिथि द्वारा किया गया। जिसमें मेरी प्रतिभागिता सहोदरी सोपान ५ में पृष्ठ संख्या 165-168 में ,सम्मिलित है। इस पुस्तक के माध्यम से देश विदेश के विभिन्न रचनाकारों को पन्नों में सहेजना बराबर है मानो जमीन पर तारों की झिलमिलाहट पन्नों में उतर आया है। एक सहज,शालीन आवरण के साथ पन्नों को पलटते ही दृष्टि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संदेश पर ठहर जाती जिनका हिंदी भाषा को विश्वस्तरीय तक ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका है। हिंदी शब्दकोशीय को दृष्टिगत कर रचनाकारों की पृष्ठ बनाया गया है। हर प्रांत ,पृष्ठभूमि से जुड़े पाठकों के लिए सहोदरी सोपान पाठकों के लिए सहस्रों धाराओं के समान फूटने,खिलने के साथ एक राह बनाती  पुस्तक है।
सच है...सृजनशीलता के तले एक शांत नदी बहती रहती..जो इस पुस्तक के माध्यम से पृष्ठों के सतहों पर बही,जहाँ प्यास बुझती नहीं बल्कि  शदीद से बढ़ जाती है।
कई अंजान चेहरों के बीच में एक डोर था ,और वो था शब्दों का डोर। किताबों के साथ  हाथों में आते ही  सबके हाथों के साथ नज़रें भी रक्स़ करने लगती और एक ग्रुप फोटों के साथ कार्यक्रम सहोदरी हिंदी भाषा आदरणीय जयकांत मिश्रा जी के तत्वावधान में समापन हुआ। यूँ तो कार्यक्रम काफी सफल रहा पर बेहतर बनाने के लिए कुछ सुझावों के साथ अगला कार्यक्रम हो तो और भी बढिया होगा.. जैसे..तेजी से भागते समय और ढ़लती शामों  से लेखकों को प्रकाशित पुस्तकों को लेने में कुछ परेशानियों से रूबरू होना पड़ा जिसे सम्मानित पत्र और मेडल के साथ देकर दूर किया जा सकता है।साथ ही थैले का भी इंतजाम जिसका मूल्य सहयोग राशि में ले लिया जाए। क्योंकि  भूमंडलीकरण के दौर के साथ बदलते यथार्थ के आयामों संग चलना भी जरूरी है।
अक्टूबर की हल्की ठंड पड़ती शाम, घड़ी की ४:३०बजे के साथ बसेरे की ओर इशारा कर रही थी। (अंतर्मन से आती आवाज़ हौले से बोली क्या लिख रही हो..संस्मरण ..कौन सा झंडा बुलंद कर ली..कई किताबें छपती है...पर..मैं भी न..शाद सी..नाशाद सी...कलम और मन कभी कभी रुकते नहीं।)
वहाँ बिताए कुछ पल स्मृतियों में दर्ज कर एक जहीन कोना सजाया जो रह रह कर एहसास कराता है..होने का..वजूद का..जिसमें मैं अक्सर बुनती, पिरोती रहती हूँ.. कभी कोई सपने, कभी मन कोनो में हँसती, बिसूरती यादें. है..न..ये लम्हों की सौगातें।
पम्मी सिंह'तृप्ति'...✍






















Nov 18, 2018

माहिया




माहिया 
1
रंग की धारा गुनती
पिया की आश में
भावों के रंग बुनती।

2
 सपनें कई निहारें
 टोह रही गोरी
संदली पांव उतारें

3
हसरतों में भीगते
नम होती आँखें
मुंतज़िर शाद वफा के।
4
दर्पण  हसरतों की
कई बातों की
इंतजार वस्ल की।
                                  पम्मी सिंह 'तृप्ति'..✍