Search This Blog

Mar 24, 2017

इक मुखौटा



सोचती हूँ खूबसूरत कहूँ या कुछ और

हर शख्स मिला

चेहरे पर चेहरा लगाए.
.
पर वो इंसान का चेहरा नहीं मिला

हर हँसी के पीछे

एक और हँसी

रही कसर हुई पूरी...

जब बेहरुपिए से इक मुखौटा मांग कर,

गिरती हूँ बस

इन शतरंजी चाल से

शउर नहीं कि खुद को समझाउँ

शायद इतनी समझदार भी नहीं..
                                               पम्मी


13 comments:

  1. शउर नहीं कि खुद को समझाउँ

    शायद इतनी समझदार भी नहीं......वाह!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह प्रतिक्रिया मिलना मेरी रचना का सम्मान है।धन्यवाद..

      Delete
  2. हर शख्स मिला

    चेहरे पर चेहरा लगाए.
    .
    पर वो इंसान का चेहरा नहीं मिला
    वाह ! बहुत खूब पंक्तियाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह प्रतिक्रिया मिलना मेरी रचना का सम्मान है।धन्यवाद..

      Delete
  3. bahut achchi kavita... badhai aur shubhkamnayen

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह प्रतिक्रिया मिलना मेरी रचना का सम्मान है।धन्यवाद..

      Delete
  4. आज का सच तो यही है ... कई कई मुखौटे हैं इंसान के चेहरे पर ... अब तो वो भी भूल गए हैं अपना चेहरा ... अच्छा लिखा है बहुत ही ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह प्रतिक्रिया मिलना मेरी रचना का सम्मान है।धन्यवाद..

      Delete
  5. जब बेहरुपिए से इक मुखौटा मांग कर,

    गिरती हूँ बस

    इन शतरंजी चाल से

    शउर नहीं कि खुद को समझाउँ

    शायद इतनी समझदार भी नहीं..
    बहुत ही सुन्दर रचना.....
    मुखौटा लगाए इंसान को पहचानना मुश्किल ही है

    ReplyDelete
    Replies

    1. रचना पढने व उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,
      सादर आभार.

      Delete
  6. बहुत प्रभावपूर्ण रचना......
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपके विचारों का इन्तज़ार.....

    ReplyDelete
    Replies

    1. रचना पढने व उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,
      सादर आभार.

      Delete
  7. सुन्दर शब्द रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete