Search This Blog

Oct 29, 2015

तलाश

 तलाश                                                                                            

स्वतंत्रता  तो उतनी  ही है  हमारी          
जितनी लम्बी बेड़ियों  की डोर 
हर इक ने इच्छा, अपेक्षा, 
संस्कारो और सम्मानो की 
सीमाए  डाल  रखी है,                                                         
तलाश  है उस थोड़े  से   आसमान की  
किसी ने कहीं देखा  है?
 वो इक आकाश  का  टुकड़ा               
जहाँ  हम  ही हम  हो,               
उन्मुक्ता, अधिकार मिली  सभी चराचर  को                      
फिर. ..                 
हमे  मांगना  ही क्यों   पड़ा               
क्यू   न हो ऐसा कि                            
 स्वतंत्रता सब की जरूरत बन जाए...                              
तलाश है उस थोड़े  से  आसमान की            
फिर..                           
उस वसुन्धरा की काया       
कुछ और  ही  होती     
तलाश है...                                                                
                          
                                               © पम्मी.. 

(चित्र  गूगल  के  सौजन्य  से )